इटावा उतरप्रदेश तीर ए नज़र

Etawah News : लॉक डाउन की सतर्कता का सही से पालन ना करने पर बढ़ सकती है परेशानी

 

संवाददाता दिलीप कुमार :   कोरोना वायरस इधर उधर थूकने से भी फैलता है। इसलिए सरकार ने लॉकडाउन के बीच तम्बाकू व मसाले की बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया है। इसके बाद भी कस्बे में तम्बाकू की बिक्री खुलेआम हो रही है। कस्बे के बाजार में सुबह के समय थोक के दुकानदार

प्रतिबंधित तम्बाकू की बिक्री कर रहे हैं। जिसके बाद यह तम्बाकू कस्बे की गलियों तक पहुंच जाती है और दिनभर चोरी छुपे इसकी बिक्री ऊंचे दामों पर होती है। इसी प्रकार से मसालों की भी बिक्री छोटी दुकानों पर दिन भर चलती रहती है। देर शाम और सुबह के समय यह दुकानदार थोक की दुकान से किसी तरह से मसाला लेकर आते हैं और दिनभर इन्हें मनमाने दाम पर बेचा जाता है।

सेनेटाइजेशन तो दूर, महीनों से नहीं हुई गांव में सफाई

कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर जहां एक ओर लॉकडाउन के बीच लोगों को साफ सफाई रखने की सलाह दी जा रही है और शहर व कस्बों में सेनेटाइजेशन का कार्य किया जा रहा है। वहीं चकरनगर के गांव चकपुरा में आज भी गंदगी का अम्बार है। यहां पर महीनों से सफाई कर्मी नहीं पहुंचे हैं। ऐसे में लोग इस गंदगी से फैलने वाले किसी भी तरह के संक्रमण से डर रहे हैं।

 

गांव में रह रहे लोग इस समय लॉकडाउन से घरों में ही हैं। ऐसे में दुनिया भर में फै ल रहे कोरोना वायरस के संक्रमण से गांव के लोग डरे हुए हैं। इन लोगों का कहना है कि सबसे ज्यादा डर उन्हें गांव में फैली गंदगी से लग रहा है। गांव की नालियां गंदगी से बजबजा रही हैं। सफाई के लिए तैनात सफाई कर्मी कई महीनों से गांव में नहीं आए हैं। गांव के लोगों का कहना है कि प्रशासन शहर और कस्बों में सेनेटाइजेशन का कार्य करा रहा है लेकिन गांवों की ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। गांवों में सेनेटाइजेशन तो दूर प्रतिदिन साफ सफाई भी नहीं की जा रही है। ऐसे में गांव के लोगों को कभी भी कोई संक्रमण अपनी चपेट में ले सकता है। गांव के श्यामू सेंगर व डा प्रताप सिंह ने जिला प्रशासन से मांग की कि गांव में प्रतिदिन सफाई कराए जाने के साथ ही दवाई का छिड़काव कराया जाए। इसके साथ ही जल निकासी के लिए नाली का निर्माण भी कराया जाए।