Bihar news लाल बाजार स्थित श्याम मन्दिर परिसर से पारम्परिक उत्साह व भक्तिमय माहौल में निकली निशान यात्रा
Breaking News बिहार: बेतिया

Bihar news लाल बाजार स्थित श्याम मन्दिर परिसर से पारम्परिक उत्साह व भक्तिमय माहौल में निकली निशान यात्रा

 

 

संवाददाता मोहन सिंह बेतिया

हाथों में निशान व मुंह बाबा का नाम, हमें पहुंचना है खाटू श्याम के धाम और हारे का सहारा है, बाबा श्याम हमारा है! जैसे भजनों की धुन पर श्याम भक्त झूमते हुए नजर आ रहे थे। श्याम मन्दिर की निशान यात्रा को लेकर रविवार को सुबह से ही शहर का माहौल पूरी तरह भक्तिमय हो गया। जिसका नजारा श्री श्याम मंदिर से निकली निशान शोभायात्रा में दिखा।

 

Bihar news लाल बाजार स्थित श्याम मन्दिर परिसर से पारम्परिक उत्साह व भक्तिमय माहौल में निकली निशान यात्राश्याम भक्त सैकड़ों श्रद्धालु व भक्त पूरी तरह भक्तिमय उमंग में डूबे रहे। शहर के लालबाजार चौक के समीप अवस्थित श्री श्याम मंदिर से निशान शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा में श्याम भक्त हाथों में निशान यात्रा की ध्वजा लेकर भजन व भक्ति गीत गाते हुये चल रहे थे। श्याम बाबा की निशान यात्रा में विशेष रूप में शामिल नगर निगम की निवर्तमान सभापति गरिमा देवी सिकारिया ने कहा कि राजस्थान के खाटू में 17 वीं शताब्दी में स्थापित श्याम मन्दिर भारतीय सनातन संस्कृति और आध्यात्मिक भावनाओं के अभ्युदय का प्रतीक है।

 

Bihar news लाल बाजार स्थित श्याम मन्दिर परिसर से पारम्परिक उत्साह व भक्तिमय माहौल में निकली निशान यात्रा

इसी के उपलक्ष्य में हर साल श्याम बाबा की निशान यात्रा बेतिया में भी निकाली जाती है। उल्लेखनीय है कि निशान यात्रा में शामिल भक्तों ने सिर पर राजस्थानी पगड़ी बांध रखी थी। माहौल बिल्कुल खाटू श्याम की पूजा में लीन जैसा प्रतीत हो रहा था। निशान शोभायात्रा श्री श्याम मंदिर से निकल कर लाल बाजार चौकर त्रिमूर्ति चौक पहुंची। फिर वहां से हजारीमल धर्मशाला रोड होकर सोवाबाबू चौक होते हुये लाल बाजार स्थित श्याम मंदिर पहुंचकर समाप्त हो गयी।महिलाओं व बच्चों ने भी शोभायात्रा में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिए। श्याम भक्तों ने बाबा श्याम की पूजा-अर्चना कर सुख व समृद्वि की कामना की। इधर इस ‘निशान यात्रा’ के आयोजन में श्याम मन्दिर कमेटी के मार्गदर्शक मंडल सदस्य गुलझारी लाल सिकारिया, विवेक सिकारिया, विजय गोयनका, राजकुमार सोमानी के अतिरिक्त
अध्यक्ष-ओम प्रकाश सर्राफ,
सचिव-अनिल तोदी, कोषाध्यक्ष-आदित्य अग्रवाल
सहयोगी श्रद्धालु शंकर नाई, शंकर चौरसिया आदि की यात्रा के आयोजन में सक्रिय भागीदारी रही।