Breaking News अपराध आगरा उतरप्रदेश

Agra News: दहेज हत्या के वांछित आरोपी मृतका के परिजनों को दे रही धमकी,बना रहे हैं राजीनामा का दबाब

संवाददाता सुशील चंद्रा
थाना बाह क्षेत्र के अंतर्गत बिजौली गांव में बीते दिनों एक महिला का शव घर में पंखे से फांसी के फंदे पर लटका मिला था।ससुरालीजन मौके से फरार हो गए थे। मृतका के परिजनों ने ससुरालियों पर दहेज की खातिर हत्या करने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था लेकिन आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से मृतका के परिजनों ने पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं।वहीं दूसरी ओर वांछित आरोपी राजीनामा करने के लिए लगातार धमकियां दे रहे हैं।प्राप्त जानकारी के अनुसार थाना बसई अरेला क्षेत्र के अंतर्गत गांव सवोरा निवासी हसन खां ने 21 नवंबर 2020 को अपनी पुत्री सुनीता की शादी बाह के बिजौली गांव निवासी शाहिद खां पुत्र भूरे खां के साथ अपनी हैसियत के हिसाब से धूमधाम से की थी। आरोप है कि शादी के बाद से ही दहेज लोभी ससुराली जन विवाहिता को दहेज में कार लाने के लिए लगातार उत्पीड़न कर रहे थे जिस पर विवाहिता के मजदूर पिता ने ससुरालियों को समझाने का प्रयास किया था मगर वह नहीं माने। 26 दिन पूर्व विवाहिता सुनीता ससुराल में घर के कमरे में फांसी के फंदे पर लटकती हुई मिली जिससे उसकी मौत हो गई थी और मौके से ससुरालीजन फरार हो गए थे। सूचना पर पहुंचे मायके के परिजनों ने दहेज हत्या का आरोप लगाते हुए सात ससुरालीजनों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। जिस पर पुलिस ने आरोपी पति शाहिद एवं भूरे खां, शाहजहां, साजिद खां, समीना, सलीम खां, नत्थू खां के खिलाफ दहेज हत्या की धाराओं में मामला दर्ज कर मृतका के शव का पोस्टमार्टम कराया था और मामले की जांच शुरू कर दी थी। मृतका के पिता का आरोप है कि 26 दिन बीत जाने के बावजूद भी उनकी बेटी के कातिलों को पुलिस ने अभी तक नहीं पकड़ा है सभी आरोपी फरार हैं। फरार आरोपियों द्वारा लगातार मृतका के पिता एवं अन्य परिजनों को राजीनामा के लिए फोन एवं व्हाट्सएप के माध्यम से मैसेज भेजकर दबाब बनाया जा रहा है। राजीनामा नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दी रही है। जिससे परिवार के लोग दहशत में हैं उन्होंने पुलिस के उच्चाधिकारियों से मामले की शिकायत कर जल्द से जल्द फरार वांछित आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है। पुलिस ने फरार आरोपियों को पकड़ने का भरोसा दिलाया है मगर बाह पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे हैं कि आखिर इतने दिन बीत जाने के बावजूद भी फरार आरोपियों को क्यों नहीं पकड़ा जा सका है।