Breaking News उतरप्रदेश प्रयागराज

प्रयागराज न्यूज़ :ज्वाला देवी सरस्वती विद्या मंदिर मंफोर्डगंज में विवेकानंद जयंती पर पूर्व छात्र सम्मेलन का आयोजन

रिपोर्ट राम जी विश्वकर्मा
ज्वाला देवी सरस्वती विद्या मंदिर बालिका विद्यालय में युवा सन्यासी स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के अवसर पर पूर्व छात्र सम्मेलन का आयोजन किया गया विगत 10 वर्षों के पूर्व छात्रों ने एक साथ आकर अपने बीते दिनों और पुराने अनुभवों को एक दूसरे के साथ साझा करते हुए बहुत ही और स्वर्णिम पलों को साथ बिताया कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में डॉक्टर कमलाकर सिंह रेडियोलॉजिस्ट बेली हॉस्पिटल उपस्थित रहे विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉक्टर रामहित जी भूतपूर्व प्रधानाचार्य गोरखपुर महाविद्यालय आप दोनों ने ही अपनी अपनी विधा के अनेक बिंदुओं पर रखकर भैया बहनों काे दिशानिर्देश दिया विद्यालय की प्रधानाचार्य श्रीमती मीना श्रीवास्तव जी ने दीप प्रज्वलित कराकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया आए हुए अपने पुरातन छात्र छात्राओं को देखकर संपूर्ण विद्यालय के आचार्य दीदी अभिभूत हो गए पूर्व छात्र छात्राओं ने अपने ऐसे अनेक पलों को संस्मृत में लाकर कार्यक्रम के कुछ पलों को बेहद भावपूर्ण बना दिया।

 

प्रयागराज न्यूज़ :ज्वाला देवी सरस्वती विद्या मंदिर मंफोर्डगंज में विवेकानंद जयंती पर पूर्व छात्र सम्मेलन का आयोजन

 

 

विद्यालय की प्रधानाचार्य ने पूर्व छात्र सम्मेलन के साथ-साथ विवेकानंद जी के बारे में भी अपने उद्बोधन में समरसता का भाव एवं संस्कार शाला चलाने के लिए अपने पुराने भैया बहनों से आग्रह किया उनसे कहा आप भी जो भी शिक्षा व संस्कार इस विद्यालय से सीखा है कृपया उसको कहीं न कहीं दान स्वरूप देकर इस विधा को आगे बढ़ाते जाए यही हमारी गुरु दक्षिणा कार्यक्रम में विद्यालय की अध्यक्ष श्रीमती मंजू दरबारी जी सदस्य श्री श्रीमती सीमा भार्गव जी भी उपस्थित रही विद्यालय के पूर्व छात्र प्रमुख जय राम जी ने भी भावपूर्ण अपने उद्बोधन में भैया बहनों का अत्यंत आभार ज्ञापित किया सभी आचार्यों ने संपूर्ण कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर सहयोग और प्रतिभाग किया।

प्रयागराज न्यूज़ :ज्वाला देवी सरस्वती विद्या मंदिर मंफोर्डगंज में विवेकानंद जयंती पर पूर्व छात्र सम्मेलन का आयोजन

सभी के सहयोग से कार्यक्रम अत्यंत सफल रहा इस काल में भी आने वाले भैया बहनों की संख्या लगभग 100 थी जिन्होंने बार-बार इस विद्यालय में आने के लिए प्रधानाचार्य जी से आग्रह किया और विदा लेते समय भावुक होकर विद्यालय को प्रणाम करके जाते हुए यह संदेश दिया कि हम इस विद्यालय को कभी नहीं भूलेंगे।