कैसे करे कोरोन की तीसरी लहर से बचाव ? क्यों जरूरी है मौखिक स्वच्छता जाने डॉक्टर नेहा सक्सेना से
Breaking News आगरा उतरप्रदेश

कैसे करे कोरोन की तीसरी लहर से बचाव ? क्यों जरूरी है मौखिक स्वच्छता जाने डॉक्टर नेहा सक्सेना से

संवाददाता फैजान खान

आगरा। हमारा देश कोरोना संक्रमण से लगातार दो सालो से जूझ रहा है कोरोना के संक्रमण की तीन लहरों ने हमारे देश में बूढ़ों,बच्चो, एवं व्यस्क लोगो को अपनी चपेट में लिया है। इसी को लेकर डॉक्टर नेहा सक्सेना बताया किस तरह से मौखिक स्वच्छता का केस ध्यान रखे जैसा कि आप सभी जानते है की कोरोना की तीसरी लहर जो कि बच्चों को अपना शिकार बना सकती है वर्तमान में हमारे देश को कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है इसी संक्रमण की तीसरी लहर में बचने के लिए और कोरोना की पहली और दूसरी लहर में पीढ़ित होने के बाद आप सभी को अपने मुंह की स्वच्छता का खास ध्यान रखना होगा जिससे आपको कोरोना संक्रमण के बाद होने वाली खतरनाक बीमारियां जैसे ब्लैक फंगस, ग्रीन फंगस, मोनो फंगस जैसी परेशानियों से बचा सके कुछ खास टिप्स एवं ट्रिक्स मौखिक स्वच्छता बनाने एवं फंगल इंफेक्शन से बचने के लिए आपको कोरोना के बाद होने वाली गंभीर बीमारियों से सचेत किया जा सके और किसी फंगल इंफेक्शन की शुरुआती पहचान की जा सके ।

 

कैसे करे कोरोन की तीसरी लहर से बचाव ? क्यों जरूरी है मौखिक स्वच्छता जाने डॉक्टर नेहा सक्सेना सेजिसके लिए इन बातो का रखे ये खास बाते का ध्यान। संक्रमण के दौरान हॉस्पिटल यह होम आईसुलेशन में इलाज के दौरान रखें यह सावधानियां – अपना टूथब्रश टूथपेस्ट टंग क्लीनर को घर के बाकी सदस्यों के बरस के साथ ना रखें इससे वायरस बाकी ब्रश में फैलने के अत्याधिक संभावना होती है, टूथब्रश को करें डिसिंफेक्ट बीटाडीन युक्त पानी या माउथवॉश में डुबाकर 5 मिनट रखे, प्रतिदिन करे 3 से 4 बार माउथवॉश, मौखिक स्वच्छता के बाद ब्लैक फंगल से बचने के लिए एवं ट्रिक्स-मौखिक स्वच्छता कोरोना संक्रमण के ठीक होने के बाद दोगुनी ध्यान में रखनी होगी, हमारे मास्क पहनने के बाद जब मास्क के अंदर नमी पैदा होती है तो संक्रमण के चांस ज्यादा हो जाते हैं हमें मास बदल देना चाहिए।