Holi color
Breaking News आर्टिकल उतरप्रदेश

होली का रंग

कवित्री जयमोहन

फागुन के महीने में चढ़ा होली का रंग
दो समझकर बाबूजी पी गए लोटा भर भंग
90 साल के बाबूजी अब वह गए हैं यंग
हो गए है यंग हाल न पूछो यारा
कड़वी बोली कि जगह अब बोलते प्यारा
धोती कुर्ता की जगह
पहनी है पतलून
यंग दिखने का सिर पर चढ़ा जुनून
बब्बू नाइ से वो बोले
दिखा दे अपना कमाल
स्याम रंग में रंग दे मेरी मूछें और बाल
चुनिया चाची से चुटकी ले बोले थाम ले मेरा हाथ
तू भी अकेली मैं भी अकेला
हो जा मेरे साथ
नही होश में तुम हो कक्का
क्यों करते ऐसी बात
सुन पाए जो बेटे हमारे बिगाड़ देगे तुम्हारी साख
घर जाओ और खाओ खटाई
उतरेगी जब भंग
तबही समझ आएगा कक्का
नही तुम अब यंग