Breaking News इटावा उतरप्रदेश

Etawah News: बहुत हुआ इंतजार अब करेंगे सत्याग्रह : दीपक राज

संवाददाता दिलीप कुमार

इटावा/इकदिल: अबकी बार आर-पार का मन बना चुका मिशन इकदिल ब्लॉक का यह संकल्प 2 अक्टूबर को प्रातः 11 बजे से ग्राम देशरमऊ में गान्धी चबूतरा से सत्याग्रह का शुभारम्भ किया जाएगा । अहिंसात्मक शस्त्र का आरंभ करने वाले पुरोधा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं जय जवान जय किसान की परंपरा को स्थापित करने वाले महा मानव लालबहादुर शास्त्री जी के जन्मदिवस से नए विकासखंड के निर्माण की घोषणा एवं जब तक मुख्यालय बने तब तक इकदिल क्षेत्र में कहीं भी अस्थाई तौर पर कार्यालय संचालित कराने के लिए अहिंसात्मक तरीके से से सत्याग्रह करेगा।

मिशन संयोजक दीपक राज ने बताया कि वह कई बार इटावा सदर विधायक सरिता भदौरिया व भरथना विधायक का सावित्री कठेरिया से अनुनय विनय कर चुके हैं । सदर विधायक ने ब्लॉक निर्माण के संबंध में शासन प्रशासन की संपूर्ण कार्यवाहियों के प्रपत्र भी लिए औ़र शीघ्र कार्यवाही करने का आश्वासन भी दिया लेकिन आश्वासन मात्र बहलाने व टरकाने वाला तरीका ही रहा जबकि विधानसभा चुनाव के दौरान विधायिका ने क्षेत्र की जनता की नए विकासखंड की मांग को जायज व सही बताते हुए वादा किया था कि सरकार बनने पर इस कार्य को प्राथमिकता के साथ पूर्ण कराया जाएगा अब लग रहा है कि विधायक ने जनता से छल करके बल प्राप्त किया है।

भरथना की विधायिका सावित्री कठेरिया ने भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जबकि भरथना महेवा ब्लाक की कई ग्राम पंचायत है जो नये विकासखंड से जुड़कर लाभान्वित होंगी जो भरथना विधानसभा क्षेत्र में आती हैं ।इसी प्रकार इटावा लोकसभा सांसद रामशंकर कठेरिया को भी जनता की इस गंभीर समस्या से अवगत कराया कई बार शासन प्रशासन द्वारा की गई कार्यवाहियों के दस्तावेज उपलब्ध कराए । दीपकराज ने आगे बताया कि अपने मिशन सह संयोजक डॉ.सुशील सम्राट के साथ मिलकर 19 जुलाई 2020 को जखौली ग्राम पंचायत में सांसद जी का कार्यक्रम करा कर इस गंभीर स्थिति से अवगत कराया।

सांसद ने शुरू में इस विषय पर गंभीरता का भी परिचय दिया लेकिन समय की शातिरता ने उनकी गंभीरता की गर्मी को गीला कर दिया इन सबके अतिरिक्त सरकार के जो भी माननीय जैसे कि इटावा प्रभारी स्वतंत्र देव सिंह, अर्चना पांडेय को ज्ञापन दिए । मुख्यमंत्री जी को कई बार ज्ञापन जिलाधिकारी द्वारा दिए महामहिम राष्ट्रपति व राज्यपाल जी के साथ साथ माननीय प्रधानमंत्री जी को भी ज्ञापन व अनुरोध पत्र दिए लेकिन ढाक के तीन पात वाली स्थिति रही । मिशन अब फिर से यह सत्याग्रह जैसे अहिंसक शस्त्र से सरकार को यह संदेश देने की कोशिश करेगा की जनता अपनी समस्या के समाधान को लेकर सोई नहीं है । अंत में जनपद की सभी सामाजिक संगठनों से अपील करता हूं कि वह इस जनहितकारी कार्यक्रम के महायज्ञ में अपना समर्थन व साथ दें।

Facebook Notice for EU! You need to login to view and post FB Comments!