Breaking News बिहार: बेतिया

Bihar news बाढ़ से कटाव, गन्ना बर्बाद आदि मुआवजा के लिए सरकार किसान पोर्टल खोले- विधायक

संवाददाता मोहन सिंह बेतिया

भाकपा माले, राजद, कांग्रेस सहित अखिल भारतीय किसान महासभा, गन्ना उत्पादक किसान महासभा, ऐक्टू, निर्माण मजदूर संघ आदि संगठनों के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने संयुक्त रूप से बेतिया में भारत बंद में सड़कों पर उतरे, बेतिया स्टेशन चौक एन. एच.727 को दो घंटे से अधिक समय तक जाम कर रखा, जिसके कारण दोनों तरफ गाडियों की लम्बी कतार लग गयी,

 

भाकपा माले केन्द्रीय कमिटी सदस्य सह सिकटा विधायक वीरेंद्र प्रसाद गुप्ता ने जन समुह को संबोधित करते हुए कहा कि बाढ़ से कटाव, गन्ना बर्बाद आदि मुआवजा के लिए बिहार सरकार अभी तक किसान पोर्टल नहीं खोला है, जितना जल्द हो किसान पोर्टल खोले ,आगे कहा कि विगत 10 महीनों से किसान दिल्ली के मोर्चे पर डटे हुए हैं, अब तक 600 किसानों की शहादत हो चुकी है। बावजूद अंबानी-अडानी परस्त केंद्र सरकार किसानों से वार्ता करने को तैयार नहीं है। यह संवेदनहीनता का चरम है। प्रस्तावित बिजली विधेयक के जरिये केंद्र सरकार बिजली का कारपोरेटीकरण करने में लगी है। जनता की गाढ़ी कमाई से खड़ी राष्ट्रीय सम्पदाओं रेल, सेल, भेल, सड़क, अस्पताल, बैंक, बीमा आदि को बेचने में लगी है

 

 

Bihar news बाढ़ से कटाव, गन्ना बर्बाद आदि मुआवजा के लिए सरकार किसान पोर्टल खोले- विधायककमरतोड़ मंहगाई से त्रस्त जनता के ऊपर टैक्स का बोझ लगातार बढ़ता ही जा रहा है। आज़ादी के बाद अर्थव्यवस्था की ऐसी बुरी हालत कभी नहीं हुई थी। बेरोजगारी की बढ़ती दर हर रोज नया रिकॉर्ड बना रही है, वहीं मज़दूरी दर में हाल के दिनों में भारी गिरावट हुई है. 44 श्रम कानूनों को खत्म कर मजदूर विरोधी 4 श्रम कोड कानून लाया गया है। इसके खिलाफ 27 सितंबर को संयुक्त किसान संगठनों के आह्वान पर आयोजित भारत बंद पश्चिम चंपारण में ऐतिहासिक है,वही भाकपा माले के दर्जनों जन संगठनों ने पूरी मुस्तैदी से बंद के समर्थन में सड़कों पर उतरा।
किसान महासभा जिला अध्यक्ष सुनील राव ने कहा कि किसानों-बटाईदारों को प्रति एकड़ 30 हजार रुपये मुआवजा मनरेगा मज़दूरों का कार्ड, काम और समय पर मज़दूरी भुगतान की गारंटी, मनरेगा में दैनिक मज़दूरी 600 रुपये करने, वायर फीवर से लगातार हो रही मौतों आदि सवालों पर पटना दिल्ली सरकार मौन बनीं हुईं हैं, किसान, विरोधी सरकार को सब सिखाने का आह्वान किया
राजद जिला अध्यक्ष इफ्तेखार अहमद उर्फ मुना त्यागी ने कहा कि तीनों कृषि काला कानून वापस तक आंदोलन जारी रहेगा,
कांग्रेस पूर्व विधायक मदन मोहन तिवारी ने संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार तानाशाही सरकार में तब्दील हो गयी, किसी भी आंदोलनकारियों से बात नहीं कर रहीं हैं, इस सरकार को जितना भी जल्द हो उखाड़ फेंकना होगा, इनके आलवा ऐक्टू जिला सचिव रविन्द्र रवि, ऐक्टू जिला अध्यक्ष जवाहर प्रसाद, इनौस जिला अध्यक्ष फरहान राजा, संजय मुखिया, सुरेन्द्र चौधरीइंसाफ मंच जिला अध्यक्ष अखतर एमाम, सुनील गीरी, किसान महासभा जिला नेता सुजायत अंसारी, धर्म कुशवाहा, हारून गद्दी, रिखी साह, राम बाबू प्रसाद, कलाम अंसारी, इसलाम अंसारी, खग्रामस जिला अध्यक्ष संजय राम आदि नेताओं ने भी संबोधित किया और बंद को सफल बताया