Breaking News बिहार

Bihar news राजकीय बुनियादी विद्दालयो बराँटी बना मवेशियों का बना खटाल

संवाददाता-राजेन्द्र कुमार

हाजीपुर वैशाली/राजापाकर थाना के बराँटी ओपी क्षेत्र के बराँटी गांव के वार्ड नंबर04मे राजकीय बुनियादी विद्दालय है।बतादे कि जहाँ पर विद्दा का मंदिर है वहां पर मवेशियों का खटाल दंबगों द्बारा बनाया गया।अब राजकीय बुनियादी विद्दालय पर दंबगों का राज कायम हो गया है।वहां पर मवेशियों का खटाल बनाया गया है।लेकिन बुनियादी विद्दालय के प्रधानाध्यापक ने उस खटाल को देखकर भी नजरअंदाज करते आ रहा है।यह विद्दालय बराँटी गांव के वार्ड नंबर 04मे स्थित है। उदय कुमार दंबग प्रवृत्ति का आदमी है।कुछ वर्ष पूर्व उदय कुमार पिता स्व,रूदल सिह ऊर्फ कृष्ण कुमार सिह के पुत्र उदय कुमार बुनियादी विद्दालय के पूर्व सचिव था।सचिव रहते हूए स्कूल का फंड का पैसा गमन किया था।जिसका मामला हाजीपुर न्यायालय मे अंकित है।वही दंबग उदय कुमार आज पंचायत चुनाव मे अपनी पत्नी को वार्ड सदस्य से चुनाव लड़ाया था।जो अनधरबाड़ा पंचायत के बराँटी गांव के वार्ड नंबर04का वार्ड सदस्य से जीत हासिल किया।वही व्यक्ति राजकीय बुनियादी विद्दालय के कम्पस मे अपनी मवेशियों को पालन पोषण किया करता है।मै शिक्षा विभाग से जानना चाहता हूँ कि राजकीय बुनियादी विद्दालय बराँटी विद्दा का मंदिर बना या मवेशियों का खटाल।उदय कुमार स्कूल के जगह को मवेशी खटाल मे परिनत कर दिया।जिससे ग्रामीण लोग उस स्कूल के प्रधानाध्यापक एवं सरकार से नाराज चल रहा है।स्कूल के आंगन मे मवेशियों का पैखाना का ढेर लगा हूआ है।जिससे स्कूल के बच्चों के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है।लेकिन इस गंदगी को प्रधानाध्यापक देखकर नजर अदाज कर रहा है।उदय कुमार दंबग का प्रवृति का आदमी से जाना जाता है।जिसके डर से स्कूल के प्रधानाध्यापक कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे है।स्कूल मे गंदगी का ढेर लगा हूआ है।उदय कुमार अपनी दंबगयी से आतकं फैलाये हूए है।उदय कुमार राजकीय बुनियादी विद्दालय मे अपनी वर्चस्व कायम किएं हूए है।लेकिन स्कूल के कोई भी शिक्षक उदय को नही कहता है कि आप विद्दालय मे मवेशी का खटाल क्यों खोले हूए है।और न कोई प्रतिनिधि या स्कूल के अधिकारी इस भ्रष्टाचार को देखने तक नही आते है।अभी कोरोना महामारी से लोग भयभीत रहा करते है और दंबग लोग विद्दालय मे गंदगी फैलाकर बच्चों के जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे।अगर मवेशियों के पैखाना से अगर विद्दालय के बच्चों को कोई भी बिमारी ग्रस्ति करेगा तो इसका कौन जिम्मेदार होगा।या प्रधानाध्यापक होगे या सरकार।ये है बराँटी स्कूल की स्थिति।