Ambedkar Nagar News : वेट लिफ्टिंग में राष्ट्रीय स्तर पर सिल्वर मेडल जीतने का श्रेय आयुषी ने दिया अपनी शुद्ध शाकाहारी खुराक को
Breaking News अंबेडकर नगर उतरप्रदेश

Ambedkar Nagar News : वेट लिफ्टिंग में राष्ट्रीय स्तर पर सिल्वर मेडल जीतने का श्रेय आयुषी ने दिया अपनी शुद्ध शाकाहारी खुराक को

Ambedkar Nagar News : वेट लिफ्टिंग में राष्ट्रीय स्तर पर सिल्वर मेडल जीतने का श्रेय आयुषी ने दिया अपनी शुद्ध शाकाहारी खुराक को 

अम्बेडकरनगर जिले/ पटियाला, पंजाब
पूरे विश्व में शाकाहारी की अलख जगाने और आध्यात्मिक तरक्की का मार्ग प्रशस्त करने वाले बाबा जयगुरुदेव महाराज के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी उज्जैन वाले बाबा उमाकान्त महाराज की प्रेरणा से 32 साल बाद गुजरात की तरफ से पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर वेट लिफ्टिंग में क्वालीफाई करने और शुद्ध शाकाहारी डाइट लेने वाली आयुषी गज्जर ने पटियाला में संपन्न। राष्ट्रीय वेट लिफ्टिंग चैंपियनशिप 2021 में 81 किलो वर्ग श्रेणी में गुजरात के इतिहास में पहली बार सिल्वर मेडल जीत कर पूरे गुजरात का ही नहीं बल्कि शाकाहारी भोजन को श्रेष्ठ मानने वाले सभी लोगों के मस्तक शान से ऊँचे कर दिए।

 

आयुषी अपने इस मेडल का श्रेय अपने गुरु, वक़्त के पूरे सन्त, उज्जैन वाले बाबा उमाकान्त जी महाराज को, अपने माता-पिता, गुरुजनों के साथ-साथ विशेष तौर पर अपनी शुद्ध शाकाहारी डाइट को देती हैं। आयुषी ने बताया कि शाकाहारी भोजन से उन्हें बीमारियों को दूर रखने और बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के शरीर को भरपूर पोषण देने में मदद मिलती है। इस समय सन्तमत के प्रणेता, परम सन्त बाबा उमाकान्त जी महाराज की नामदानी शिष्या आयुषी ने बताया की उनका सम्पूर्ण परिवार पूज्य महाराज जी से नामदान दीक्षा ले चुका है।

 

Ambedkar Nagar News : वेट लिफ्टिंग में राष्ट्रीय स्तर पर सिल्वर मेडल जीतने का श्रेय आयुषी ने दिया अपनी शुद्ध शाकाहारी खुराक कोमहाराज जी द्वारा बताई गयी। आंतरिक साधना प्रतिदिन करने से उन्हें अपने मन-बुद्धि-चित्त को स्थिर व शांत रखने, नेगेटिव विचारों को दूर रखने, पॉजिटिव सोच व माइंडसेट बनाये रखने और लक्ष्य के प्रति एकाग्रता तुरंत हासिल करने में काफी मदद मिली। शाकाहारी भोजन के प्रति उनके मन में इतनी स्पष्टता है कि राष्ट्रीय स्तर की चैंपियनशिप प्रतियोगिता में शुद्ध शाकाहारी भोजन न मिलने पर उन्होंने पूरे टूर्नामेंट में तीन दिन तक केवल छोले-चावल और राजमा-चावल खा कर काम चलाया और फिर भी नेशनल लेवल पर सिल्वर मेडल जीता।