अम्बेडकर नगर न्यूजः महात्मा गोविंदसाहब मेले की तैयारियों को लेकर प्रशासन अभी तक उदासीन
Breaking News अंबेडकर नगर उतरप्रदेश

अम्बेडकर नगर न्यूजः महात्मा गोविंदसाहब मेले की तैयारियों को लेकर प्रशासन अभी तक उदासीन

संवाददाता पंंकज कुमार

अम्बेडकर नगर जिले के तहसील आलापुर क्षेत्र मे पूर्वांचल के ऐतिहासिक ख्यातिलब्ध महात्मा गोविंदसाहब मेले की तैयारियों को लेकर प्रशासन अभी तक उदासीन बना हुआ है माह भर तक चलने वाले मेले के आयोजन हेतु तैयारी बैठक तक अभी नहीं की जा सकी है | आपको बता दे कि मुख्य स्नान पर्व गोविंद दशमी 13 दिसंबर को है मुख्य स्नान से पूर्व ही मेले का शुभारम्भ होता है और 12 दिसम्बर की मध्य रात्रि से स्नान का सिलसिला शुरू हो जाता है | महज 23 दिन बाद होने वाले मेले की तैयारी को लेकर अभी तक जिला प्रशासन तहसील प्रशासन एवं जिला पंचायत की ओर से कोई तैयारी बैठक तक नहीं की जा सकी है | प्रसिद्ध मेले में प्रदेश के विभिन्न प्रान्तों के दुकानदारों की आमद भी शुरू हो गई है इसके बावजूद अभी तक न तो मठ क्षेत्र और न ही जिला पंचायत क्षेत्र में साफ – सफाई की व्यवस्था शुरू की गई है और न ही मठ – मंदिरों का रंगरोगन शुरू किया जा सका है | मेले के पहुंच मार्गों अमड़ी से गोविंदसाहब एवं अमोला से गोविंदसाहब – मंझरिया मार्ग की मरम्मत तक नहीं शुरू की जा सकी है और न ही मार्ग के किनारे की घास – फूस की सफाई शुरू हो सकी है |

 

अम्बेडकर नगर न्यूजः महात्मा गोविंदसाहब मेले की तैयारियों को लेकर प्रशासन अभी तक उदासीनऐसे में जब अभी तक कोई रूपरेखा भी नहीं बन पाई है तो फिर मेले की व्यवस्था कैसे चाक चौबंद होगी यह अनुमान सहज लगाया जा सकता है | पूर्वांचल के ऐतिहासिक मेले में लाखों की भीड़ एवं हजारों की संख्या में दुकानदार जुटते हैं जिसके लिए पहले से ही तैयारियां मुकम्मल की जानी चाहिए लेकिन अभी तक मेले की तैयारी की प्रगति शून्य है |

 

अम्बेडकर नगर न्यूजः महात्मा गोविंदसाहब मेले की तैयारियों को लेकर प्रशासन अभी तक उदासीनमेला समिति अध्यक्ष भौमेन्द्र सिंह पप्पू ने अविलंब प्रशासन से तैयारी बैठक कर मेले की तैयारियां शुरू कराए जाने की मांग किया है | गोविंदसाहब के ऐतिहासिक मेले में लाला पन्नालाल सुभाषचंद्र की खजले की दुकान एवं शर्मा खजला भंडार की दुकानें भी निजी स्तर से सफाई कर लगनी शुरू हो गई हैं बावजूद इसके अभी तक प्रशासन द्वारा तैयारियां शुरू नहीं कराई जा सकी हैं |