Breaking News आगरा उतरप्रदेश

Agra News: सड़क हादसे में मरे 12 श्रद्धालुओं के शव पहुँचे बाह क्षेत्र के कई गांवों में मचा कोहराम

 

संवाददाता सुशील चंद्रा

बाह: आगरा जनपद के पिनाहट और बाह कस्बा से इटावा के लखना देवी मंदिर पर नेजा चढ़ाने गए श्रद्धालुओं से भरी कैंटर गाड़ी इटावा के कसौआ गांव के पास अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिर गई जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई वहीं दर्जनों की संख्या में ग्रामीण घायल हो गए जिससे परिजनों में कोहराम मच गया है।

 

बता दें कि जानकारी के अनुसार कस्बा पिनाहट के बघेल कॉलोनी निवासी वीरेंद्र सिंह बघेल नेजा/ झंडा चढ़ाने के लिए इटावा के चकरनगर लखना देवी मंदिर के लिए कैंटर से दर्जनों की संख्या में परिजनों और रिश्तेदारों के साथ शनिवार को निकले थे। तभी इटावा के चकन नगर मार्ग पर श्रद्धालुओं से भरी कैंटर गाड़ी अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पलटी खाकर 35 फीट गहरी खाई में गिर पड़ी जिससे श्रद्धालुओं में चीख-पुकार मच गई मौके पर ही करीब 12 श्रद्धालुओं की मौत हो गई और दर्जनों की संख्या में श्रद्धालु घायल हो गए

ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस कर्मियों के साथ प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे जहां ग्रामीणों की मदद से पुलिसकर्मियों ने सभी घायलों को एंबुलेंस द्वारा जिला अस्पताल इटावा और सैफ़ई मेडिकल कॉलेज में इलाज को भर्ती कराया था जहाँ उनका इलाज किया जा रहा है वही रात में ही मृतकों के शव को पोस्टमार्टम कराकर रविवार सुबह बाह भेज दिया गया शवों के गावँ पहुँचते ही कोहराम मच गया सैकड़ों की संख्या में रिश्तेदार और सगे सम्बन्धी सांत्वना प्रकट करने इकट्ठे हो गए।

मृतकों के परिजनों को सांत्वना देने पूर्व कैबिनेट मंत्री अरिदमन सिंह,क्षेत्रीय विधायक पक्षालिका सिंह,फतेहाबाद विधायक जितेंद्र वर्मा,समाजवादी पार्टी के बाह विधानसभा प्रभारी सुधीर दुबे सहित दर्जनों जनप्रतिनिधि और कार्यकर्ता उनके घर सांत्वना प्रकट करने पहुँचे और पीड़ितों को हर सम्भव सहायता का आश्वासन दिया।

साहसी महिला मौत के मुँह से खींच लाई अपने बच्चों को

कैन्टर के 35 फ़ीट गहरी खाई में पलटने के बाद चीख पुकार मच गई।लोग उछल उछल कर इधर उधर पड़े हुए थे।कैन्टर में ही बाह निवासी पत्रकार भी अपने परिवार सहित जा रहे थे।हादसे में सभी घायल हो गए इनकी पत्नी रजनी भी घायल हो गयी थीं लेकिन इन्होंने साहस दिखाते हुए अपने घायल बच्चों को ढूँढकर एक जगह एकत्रित किया फिर पहले खाई से अपने बच्चे को 35 फ़ीट ऊपर लाकर छोड़ा फिर अपनी छोटी बेटी को ऊपर लेकर आयीं और अंत मे अपनी बड़ी बेटी को ऊपर लेकर आई तीनों बच्चों को खाई से निकालने के बाद वह बेहोश हो गई लेकिन अपने बच्चों को सकुशल मौत से बाहर खींच लायीं।

इन श्रद्धालुओं की हुई मौत:

मनोज पुत्र रामज्ञान कुशवाहा उम्र करीब 35 वर्ष, किशन सिंह पुत्र बैजनाथ उम्र करीब 70 वर्ष, हाकिम सिंह पुत्र राम सिंह उम्र करीब 65 वर्ष, जनवेद सिंह पुत्र रामदीन उम्र करीब 55 वर्ष , रामदास पुत्र गोपी सिंह उम्र करीब 65 वर्ष सभी निवासी बाह, बनवारी पुत्र भूपाल सिंह निवासी पिनाहट, महेश पुत्र राम लक्षिन निवासी आम का पुरा बाह, लालू पुत्र रामदीन उम्र करीब 42 वर्ष निवासी बाह, राजेश पुत्र छोटेलाल निवासी खिरकिया पिनाहट, राजेंद्र पत्र गंगादीन उम्र करीब 42 वर्ष निवासी पिनाहट, गुलाब सिंह पुत्र दीवान सिंह 55 वर्ष निवासी पिनाहट, ओमवती पत्नी बनबारी निवासी कस्बा बाह की मौत हो गई थी जिससे परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

 

क्षेत्र के कई गांवों में मचा कोहराम नहीं जले चूल्हे

देवी मंदिर पर नेजा चढ़ाने जा रहे श्रद्धालुओं से भरी कैंटर पलटने से 12 लोगों की मौत हो गई तो वहीं दर्जनों की संख्या में महिलाएं बच्चा पुरुष गंभीर रूप से घायल हो गए सभी मृतक एक दूसरे के रिश्तेदार हैं एक साथ 12 लोगों की हुई मौत से पिनाहट और बाह क्षेत्र के कई गांवों में शोक का माहौल है।

वही इस बड़ी घटना से परिजनों और रिश्तेदारों के घरों में चूल्हे तक नहीं जले हैं मृतकों के घरों पर भीड़ का जमावड़ा लगा हुआ है लोग सांत्वना देने आ रहे हैं।

 

मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए देने की घोषणा

श्रद्धालुओं से भरी कैंटर पलटने से 12 लोगों की हुई मौत को लेकर भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गहरा दुःख प्रकट किया है वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दु:ख प्रकट करते हुए मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए देने की घोषणा की है। साथ ही उच्च अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि घायलों का बेहतर इलाज अस्पताल में कराया जाए।

बटेश्वर शमशान घाट शवों को लेकर गयीं गाड़ियां शमशान मार्ग पर दलदल में फँसी

दर्दनाक हादसे में मरे 12 लोगों के शव लेकर अंतिम संस्कार के लिए जा रहे लोग बमुश्किल बटेश्वर शमशान घाट पहुँच सके शमशान मार्ग पर रास्ते में दलदल भरा होने से कई गाड़ियां उसमें फँस गयीं

वहीं अंतिम संस्कार में शामिल हुए सैकडों लोग भी दलदल में होकर बमुश्किल शमशान घाट तक पहुंच सके।

शोक में कस्बा पिनाहट बाजार रहा बन्द बाह के व्यापारियों में नहीं दिखी संवेदना

सड़क हादसे में 12 लोगों की एक साथ हुई मौत से जहाँ परिजनों में कोहराम मचा हुआ है तो वहीं कस्बा पिनाहट का बाजार भी बड़े हादसे में लोगों की हुई मौत को लेकर शोक में बंद हैं। कस्बा में सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है व्यापारियों एवं ग्रामीणों ने परिजनों के दुख में शामिल होकर शोक व्यक्त किया है।वहीं दूसरी ओर कस्बा बाह में 8 लोगों की मौत के बाद मोहल्ले में कोहराम मचा हुआ है

लेकिन बाह के व्यापारियों में इस दर्दनाक हादसे के बाद भी संवेदनशीलता देखने को नहीं मिली। मोहल्ले से सटा हुआ बाह का बाजार पूर्ण रूप से खुला नजर आया।

 

करने जा रहे थे पूजा अर्चना मिली मौत:

बाह और पिनाहट से दर्जनों श्रद्धालु कैंटर से लखना देवी मंदिर इटावा में नेजा चढ़ाने और पूजा अर्चना करने के लिए जा रहे थे।

विशेष पुण्य लाभ लेने और पूजा अर्चना करने के लिए गए श्रद्धालुओं की कैंटर रास्ते में पलटने से मौत मिली है तो दर्जनों घायल हुए परिजनों में कोहराम मचा हुआ है तो वहीं कई लोगों ने सवाल खड़े कर दिए हैं।

जब छोटा पड़ गया शमशान घाट तो रास्ते पर ही दी गयी मुखाग्नि

सांसद राजकुमार चाहर द्वारा ग्राम पंचायत बटेश्वर को गोद लिया गया था। और श्मशान घाट के सुंदरीकरण व खाली पड़ी जमीन को समतल करा कर श्मशान घाट के लिए जमीन का दायरा बढ़ाने के लिए ग्रामीणों को आश्वासन भी दिया था।

लेकिन जब बटेश्वर श्मशान घाट पर एक साथ सात चिताएं पहुंची तो शमशान घाट छोटा पड़ गया। वही रास्ते पर रखकर शवों को मुखाग्नि दी गई।