मेरठ न्यूज: कॉलोनियों के बीच से निकलता नाला, सांस लेना हुआ मुश्किल
Breaking News उतरप्रदेश मेरठ

मेरठ न्यूज: कॉलोनियों के बीच से निकलता नाला, सांस लेना हुआ मुश्किल

संवाददाता: रेनू

मेरठ शहर में कितने ही स्थलों पर फैला कचरा व गंदगी से भरे नालों से जनता को कोरोना महामारी के साथ- साथ बुखार, डायरिया, टाईफाइड, हैजा, मलेरिया जैसी अन्य बीमारियों का सामना करना पड़ रहा हैं। कालोनी के पास से निकला यह नाला वारिश के पानी से भरा हुआ है। पानी की निकासी होने पर यह नाले में और पानी भरने से दिक्कत पैदा हो सकती हैं। जिसकी वजह से नरक जैसे हालात बन जाएंगे । और यहां मच्छरों की पैदावार बढ़ जाएगी इस महामारी के दौर में शहर में सफाई कराने और मच्छरों से निजात दिलाने के लिए फॉगिंग व एंटी लारवा का छिड़काव तो बहुत ही दूर की बात है नाले का मलवा तक नहीं निकाला गया है।

मेरठ न्यूज: कॉलोनियों के बीच से निकलता नाला, सांस लेना हुआ मुश्किल

कोरोना जैसी भयंकर महामारी नियंत्रण के अनुसार कोई सेनिटाइजेसन तक नही करवाया जाता, जबकि प्रदेश में महामारी के बेकाबू हालात में ये जिम्मेदारी नगर निगम की होती है।
लेकिन नगर- निगम इस व्यवस्था में फेल साबित हो रहा है। इसकी दुर्गधं से लोग परेशान हैं। लोगों का सांस लेना भी दुशवार हुआ पडा़ है। इन स्थानों पर गंदगी से मच्छरों की भरमार है। जिससे लोग बीमार हो रहे हैं। साथ ही पानी भरने की वजह से लौगों के घरों की नींव में पानी का रिसाव हो रहा हैं । जो भारी नुकसान पहुंचा सकता है । लेकिन नगर आयुक्त व नगर स्वास्थ्य अधिकारी शहर की जनता की जान की फिक्र ही नहीं है। यह नाले का पानी लौगों के लिए मुसीबत बना हुआ है, इसके बाद भी इनके लिए किसी भी तरह की व्यस्थायें नही है।