Breaking News इटावा उतरप्रदेश

Etawah News: ईशनिंदा कानून बनाने की मांग के साथ राष्ट्रीय सनातन एकता मंच ने भरी हुंकार

संवाददाता आशीष कुमार इटावा। राष्ट्रीय समाधान एकता मंच की बैठक प्रदेश कार्यालय कोठी कैस्त जसवंतनगर पर आहूत हुई बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष पंडित वैभव चाष्टा ने अपने क्रांतिकारी उद्बोधन में कहा कि संगठन के द्वारा ईशनिंदा कानून बनाए जाने की मांग को अतिशीघ्र प्रधानमंत्री जी व गृहमंत्री जी से समय लेकर ज्ञापन दिया जाएगा । मंच के माध्यम से इस मांग को जन जन तक पहुंचा कर समर्थन भी जुटाया जाएगा। यदि केंद्र सरकार इस मांग पर शीघ्र निर्णय नहीं लेती है। तो सनातन धर्म व देवी देवताओं तथा देवालयों के मान सम्मान एवं रक्षार्थ माननीय न्यायालय भी जाएंगे और किसी भी हद तक जाना पड़े संगठन देवी देवताओं का देवताओं का अपमान तथा सनातन धर्म के विरुद्ध मुहिम नहीं चलाने देगा। इस मामले में विरोधियों को कुचल कर रहेंगे। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संजय दुबे ने कहा कि सनातन धर्म के प्रचार प्रसार एवं नई युवा पीढ़ी में जागरूकता लाने के लिए निशुल्क वैदिक शिक्षा देने का अभियान भी चलाया जाएगा। बैठक मैं ऋषि कांत चतुर्वेदी प्रदेश अध्यक्ष ने संबोधन में कहा कि मैं ही नहीं हिंदुस्तान का प्रत्येक राष्ट्रवादी नागरिक राष्ट्रवादी विचारक केंद्र सरकार से अपेक्षा रखता है। कि हिंदुस्तान की सरकार व लोकतांत्रिक प्रक्रिया संविधान के अनुरूप ही चले एक देश एक कानून और समान नागरिकता का अधिकार अक्षरस: लागू किया जाए । तुष्टीकरण की राह पर चलते हुए बहुत संख्यक हिंदुओं की भावनाओं से खिलवाड़ न करते हुए अनदेखी न की जाए। जम्मू कश्मीर लेह कारगिल में यदि बोर्ड की स्थापना की जाती है तो साथ ही हिंदू संपत्ति संरक्षण बोर्ड भी बनाया जाए और इसकी शुरुआत जम्मू-कश्मीर लेह कारगिल से ही होना चाहिए । क्योंकि यहां पर हिंदू अल्पसंख्यक हैं और उसे सुरक्षा एवं संरक्षण की आवश्यकता है जिन हिंदू परिवारों को आतंक के चलते अपनी मातृभूमि को छोड़कर जाना पड़ा उनको सरकार उनकी संपत्ति का मुआवजा सर्किल रेट के अनुसार उनसे संवाद स्थापित करके दे ।और उनकी संपत्तियों को हिंदू संपत्ति संरक्षण बोर्ड के अधीन लिया जाए । आतंकी उन संपत्तियों पर मौज ना करें वरिष्ठ भाजपा नेता पर्वत सिंह यादव ने कहा कि सनातन संस्कृति को मजबूत करने के लिए एवं राष्ट्रवाद के लिए समर्पित संगठन की विचारधारा की सराहना करते हुए कहा कि संगठन के द्वारा जो मांग राष्ट्रहित में और सनातन संस्कृति की रक्षार्थ व हिंदू समाज के हित में उठाई गई हैं ।वह 100 फ़ीसदी सही है मैं उनका समर्थन करता हूं और इसके लिए मेरी जहां भी आवश्यकता पड़ेगी मैं संगठन के साथ खड़ा हूं मंडल अध्यक्ष सुग्रीव ठाकरे ने कहा कि सनातन धर्म समभाव का पाठ पढ़ाता है हमारी शालीनता को हमारी कमजोरी ना समझ बैठे जिहादी मानसिकता के लोग सनातन धर्म राष्ट्रवाद पर हमला किया तो हमें किसी भी हद तक जाना पड़े उन को कुचल देंगे सनातन धर्म व राष्ट्र के विरुद्ध किसी भी प्रकार की टिप्पणी को बर्दाश्त नहीं करेंगे। उत्तर प्रदेश की धरती पर प्रथम बार आगमन के अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष का गर्मजोशी के साथ हुआ स्वागत हुआ। प्रदेश युवा इकाई के महामंत्री एवं सचिव व्यास चतुर्वेदी आशीष अग्निहोत्री आशु भदोरिया जिला अध्यक्ष मनीष उपाध्याय शिवजी दुबे जसवंत नगर विधानसभा अध्यक्ष ठाकुर नेत्रपाल सिंह चौहान ,अवनीश मिश्रा ,प्रदीप पांडे ,शैलेंद्र चौधरी हृदयनाथ चतुर्वेदी, सूर्यकांत चतुर्वेदी पंडित विद्यासागर शुक्ला, कुलदीप तिवारी प्रभात चौधरी, दिव्य मोहन चतुर्वेदी, शांतनु पवन तिवारी ,मुकुट सिंह श्रीवास्तव ,श्याम बिहारी कश्यप अक्षय त्रिपाठी ,प्रिंस भदौरिया, विशाल गुप्ता विनय पांडे, विनोद मिश्रा, बृजेश परिहार ,ठाकुर शिवेंद्र सिंह चौहान ,वेद चतुर्वेदी ,राजीव चतुर्वेदी दिनेश भदौरिया ,धर्मेंद्र पाल आज सैकड़ों लोगों ने अध्यक्ष जी का स्वागत व सम्मान किया बैठक की अध्यक्षता चौधरी बीरेंद्र सिंह दुबे ने की एवं संचालन युवा कवि मयंक बिधौलिया ने किया। मयंक बिधौलिया ने अपनी कविता वाली शैली में संचालन करते हुए कुछ पंक्तियां कहीं- आंखों में पानी लेकर गीत सुनाने आया हूं सीने में चिंगारी लेकर रीत निभाने आया हूं दुनिया चाहे चुप्पी साधे मैं ना चुप हो पाऊंगा, चौराहे पर सीख लूंगा खुलेआम चिल्लाऊंगा, ऐलान हमारा चस्पा कर दो दिल्ली के दरबारों में, जिंदा आग लगा देंगे हम संतों के हत्यारों में, कैसी है अनहोनी है घटना बड़ी घिनौनी है। रूह तक कांप जाती है जब संवेदनाएं मर जाती हैं। तब मन करता है केवल अग्नि गंदा गीत सुनाने का, कलम छोड़ तलवार उठाकर कुल की रीत निभाने का, मयंक बिधौलिया ने राष्ट्रीय सनातन एकता मंच के माध्यम से मांग की कि सनातन धर्म में गौ माता का विशेष स्थान है उनकी दुर्दशा व हत्याओं पर शीघ्र कार्यवाही की जाए गौ हत्या व गायों की दुर्दशा सीधे सीधे तौर पर सनातन धर्म का अपमान है इसे रोका जाए।