Bihar news गंडक नदी के रास्ते बहकर आए मृत गेंडे का गंडक बराज से रेस्क्यू 
Breaking News बिहार: बेतिया

Bihar news: गंडक नदी के रास्ते बहकर आए मृत गेंडे का गंडक बराज से रेस्क्यू 

संवाददाता मोहन सिंह बेतिया

वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना क्षेत्र अंतर्गत गंडक बराज से मृत पाए गए गेंडे का रेस्क्यू किया गया। बतादें की सुबह तड़के मॉर्निंग वॉक पर निकले स्थानीय लोगों की नज़र गंडक बराज के मुख्य त्रिहुत नहर के गेट पर उपलाते मृत गेंडे पर पड़ी । जिसकी सूचना वन विभाग को दी गई । घटना की जानकारी मिलते ही कई लोग गंडक बराज पर एकत्रित हो गए । सूचना पर पहुंचे वनकर्मियों ने काफी मशक्कत कर रेस्क्यू करने की कोशिश की लेकिन गेंडे के गंडक बराज के गेट और नहर के दोनों तरफ स्लोप होने के कारण दिक्कतें आ रही थी । बतादूँ की सभी सम्भावनाओं और सभी विकल्पों पर विचार करने के बाद जेसीबी मशीन की मदद ली गई,करीब चार घंटे के मशक्कत के बाद गेंडे का रेस्क्यू कर लिया गया । रेंजर महेश प्रसाद ने बताया कि पोस्टमार्टम के लिए गेंडे को भेज दिया गया है ।

 

गैंडे के मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद खुलासा किया जाएगा । बतातें चलें कि वीटीआर जंगल सीमा से नेपाल स्थित नेशनल पार्क का सीमा लगा हुआ है । जहां सैकड़ो की संख्या में गेंडों का अधिवास है । ज्ञात हो कि नेशनल चितवन पार्क को चीरते हुए बीचों बीच नारायणी गंडक नदी नेपाल के रास्ते बहते हुए गंडक बराज से आगे निकलकर भारतीय सीमा क्षेत्र में प्रवेश कर जाती है । अक्सर बरसात के मौसम में लैंड स्लाइड व पहाड़ी नालों में आए पानी के फ़ोर्स से चितवन नेशनल पार्क के जानवर गंडक नदी में गिरकर बहते हुए गंडक बराज तक पहुंच जाते है। कुछ जानवर गंडक नदी के किनारे व्याघ्र परियोजना के जंगल मे चले आते है तो कुछ जानवर नदी में बहते हुए आगे निकल जाते है । जानकारी के लिए बतादूँ की लम्बे समय तक नदी में बहने के कारण कई जानवरों की मौत भी हो जाती है। गंडक बराज से रेस्क्यू किए गए गेंडे की भी मौत अनुमानतः इसी वजह से हो गई होगी।Bihar news गंडक नदी के रास्ते बहकर आए मृत गेंडे का गंडक बराज से रेस्क्यू 

 

इस संबंध में वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के निदेशक हेमंत राय ने बताया कि गंडक से निकाली गई गेंडा के शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है जो लगभग डेढ़ वर्ष का बच्चा है जो नेपाल से गंडक नदी कै पानी मे दहकर आया है हालाँकि मौत के कारण का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद ही पता चल सकेगा ।