Breaking News आगरा उतरप्रदेश

Agra News: संदिग्ध परिस्थितियों में हुई युवक की मौत, परिजन लगा रहे पुलिस पर आरोप

संवाददाता सुशील चंद्रा
जैतपुर: थाना जैतपुर क्षेत्र के अंतर्गत अमाही निवासी धर्मेंद्र उर्फ धन्ना को अवैध शराब बेचने के जुर्म में जैतपुर पुलिस द्वारा 25 मार्च को शराब तस्करी में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। जेल में अचानक तबियत खराब होने पर जेल पुलिस ने परिजनों को सूचित कर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया था।हालत में सुधार न होने पर चिकित्सकों ने इलाज के लिए आगरा से दिल्ली महर्षि वाल्मीकि अस्पताल के लिए रेफर किया था जहाँ रविवार देर रात इलाज के दौरान युवक की मौत हो गयी।युवक की मौत पर परिजनों ने पुलिस पर थर्ड डिग्री दिए जाने का आरोप लगाया है।साथ ही जैतपुर एस ओ योगेंद्र पाल सिंह पर युवक को जैतपुर से आगरा जेल ले जाते समय रास्ते में युवक के गुप्तांगों पर पेट्रोल डालने और एनकाउंटर करने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं।परिजनों द्वारा युवक के मरने से पूर्व दिए गए बयान का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल किया गया है जिसमें युवक ने पूरी बात बतायी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मामला थाना जैतपुर क्षेत्र के अंतर्गत पहाड़पुरा पेट्रोल पंप के सामने कृष्णा होटल का है जहां पुलिस ने धर्मेंद्र उर्फ धन्ना पुत्र बच्ची लाल निवासी नई बस्ती अमाही जैतपुर कला को अवैध शराब बेचने उसमें मिलावट करने के जुर्म में 25 मार्च को गिरफ्तार किया था पुलिस ने धर्मेंद्र का सीएचसी में मेडिकल करवाकर उसे जिला कारागार आगरा में भेज दिया था जहां पर उसकी तबीयत खराब होने पर उसे एसएन मेडिकल कॉलेज आगरा के लिए शिफ्ट किया गया।जहाँ जांच में रेबीज का इन्फेक्शन पाए जाने पर उसे महर्षि बाल्मीकि मेडिकल हॉस्पिटल मुखर्जी नगर नई दिल्ली के लिए भेज दिया गया जहां रविवार की रात उसकी मौत हो गई लेकिन धर्मेंद्र उर्फ धन्ना के परिजनों का आरोप है कि उसकी मौत पुलिस के द्वारा टॉर्चर करने तथा उसे थर्ड डिग्री देने के कारण हुई है जिसमें उन्होंने जैतपुर एस ओ योगेंद्र पाल सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आगरा जे मुनिराज जी को मामले की जांच के लिए पत्र भेजा है।

परिजनों द्वारा पुलिस कप्तान को दी गयी तहरीर की कॉपी

सोमवार दोपहर बाद जैतपुर पहुँचे एस पी पूर्वी आगरा वेंकट अशोक ने बताया कि डॉक्टरों की जांच के बाद यह पता लगा है कि धर्मेंद्र की मौत रेबीज फ़ैलने के दौरान हुई है और परिजनों द्वारा पुलिस पर लगाये गए आरोप निराधार हैं।