श्री राम कथा के चौथे दिन राम जी के बाल जीवन पर प्रकाश डालते -पारस मणि जी
Breaking News उतरप्रदेश

Vaishali News : श्री राम कथा के चौथे दिन राम जी के बाल जीवन पर प्रकाश डालते -पारस मणि जी

नवीन कुमार संवाददाता हाजीपुर वैशाली : नवानगर पंचायत के मोहनपुर गांव में श्री राम कथा ज्ञान यज्ञ के चौथे दिन श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़, इस दौरान कोविड-19 से बचाव के लिए कार्यक्रम के दौरान श्रद्धालुओं को माक्स वितरण किया जाता है, वही श्रद्धालुओं के बीच सैनिटाइजर का छिड़काव किया जाता है,अयोध्या से आए हुए अंतर्राष्ट्रीय कथा व्यास श्री पारस मणि जी महाराज ने बहुत ही सुंदर मीठी वाणी से श्री राम जी के बाल जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा श्री राम का बाल जीवन समस्त मानव जाति के लिए एक संदेश है ।

श्री राम कथा के चौथे दिन राम जी के बाल जीवन पर प्रकाश डालते -पारस मणि जी

श्री राम ने अपने बचपन में गुरु वशिष्ट की कुटिया में ज्ञान प्राप्ति की और इस प्रसंग से दुनिया के हर एक बच्चों को बताया ज्ञान प्राप्ति आवश्यक है बिना ज्ञान के मानव का जीवन पशु समान होता है मानव जीवन की तीन अवस्थाएं होती है बचपन जवानी बुढ़ापा तीनों अवस्थाओं में व्यक्ति को तीन चीजें प्राप्त होनी चाहिए बचपन में ज्ञान जवानी में धन और बुढ़ापे में सम्मान लेकिन बुढ़ापे में सम्मान पाने के लिए जवानी में धन पाने के लिए बचपन में ज्ञान पाना जरूरी है ।जीवन में जब ज्ञान आता है तो विनम्रता भी आती है अपने बड़े बूढ़ों के चरणों में झुकने से संकोच नहीं लगता है जिस वृक्ष में फल लगता है उस वृक्ष की डाली अपने आप नीचे की ओर झुक जाया करती है ।ऐसे ही जिस मस्तिष्क में ज्ञान आता है वह अपने बड़े बूढ़ों के चरणों में अपने आप झुक जाया करता है श्री राम ने ज्ञान पाकर उसे अपने व्यवहार में शामिल कर लिया और नित्य प्रातः काल उठकर अपने माता पिता गुरु के चरणों में प्रणाम करके सारी दुनिया को बता दिया की विद्या ददाति विनयम विद्या से विनम्रता आती है श्री राम कथा के मुख्य संयोजक श्री प्रवीण राज तथा उनके अन्य सहयोगियों के द्वारा नौ दिवसीय श्री राम कथा ज्ञान यज्ञ का भव्य आयोजन किया गया। जिसमें गांव के क्षेत्र के तथा आसपास के लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई ।