बिहार: सरकार के सात निश्चय योजना मे नल जल योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना मे अनियमितता
Breaking News अन्य राज्य बिहार

बिहार: सरकार के सात निश्चय योजना मे नल जल योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना मे अनियमितता

   संवाददाता -राजेन्द्र कुमार

हाजीपुर वैशाली/राजापाकर प्रखंड अतर्गत बाकरपुर पंचायत के वार्ड संख्या9मे अभी तक नल-जल योजना का काम अधूरा रहा।बाकरपुर गांव निवासी गजेन्द्र राम का कहना है कि मेरे वार्ड सख्या9मे नल-जल योजना का काम ही नही हूआ।हम लोगदूसरे के चापाकल से पानी लाते है।नल जल का पानी के लिए लालायित है,जबकि बाकरपुर पंचायत के वार्ड संख्या9मे महादलित का संख्या है यहां पर कोई भी प्रखंड के मुखिया से लेकर बिडियो, विधायक नही आते है कभी आये भी होगे तो सिर्फ आसवासशन देकर चले जाते है।लगभग पांच महीना पहले एक मौलवी साहब बिडियो साहब आये थे और विधायक प्रतिमा कुमारी दास आयी थी लेकिन इस महादलित बस्ती के लिए कुछ नही किया।सरकारी योजना से हमलोग वंचित रह जाते है।जब चुनाव का समय आता है सारे उम्मीदवार आकर बहुत सा प्रलोभन देते है कि मै आपलोगों के हित का काम करूंगा।लेकिन ऐसा कुछ भी काम नही होता है।

 

बिहार: सरकार के सात निश्चय योजना मे नल जल योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना मे अनियमितताहमलोगो को शौचालय पास नही हूआ।हमारे घर के महिलाएं सब शौच करने के लिए दूसरे के खेत मे जाना पड़ता है।बाकरपुर पंचायत के मुखियां निलम भारती कहती है कि महादलित लोग हमे वोट नही किया है।इस तरह की बात हमलोगो को कहती है मुखियां।हमलोग सरकारी योजनाओं से वंचित रहते है।जबकि महादलित के लिए सरकार बहुत सारे योजनाएं देती है लेकिन हमलोग को योजनाएं से कोई फायदा नही मिल रहा है।आदरनीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का कहना है कि सब का विकास सब का साथ ये उनका नारा है लेकिन यहां पर बिचौलियों ने विकास का बाधा बनकर बैठा है।हमलोगो को न मुखियां से लेकर विधायक ,प्रखंड के अधिकारी तक सुनने वाला नही है।मै गरीब दलित अपना मजबूरी किस से जाकर कहुँ।गरीब दलित का दर्द कौन जानेगा भगवान भरोसे जीना है।बाकरपुर पंचायत के लोग-चंद्रकला देवी, गीता देवी, वासमती देवी,चनियां देवी, किरण देवी, अनूठा देवी, वीणा देवी, बवीता देवी, मीणा देवी, गजेन्द्र राम,महेन्द्र राम,सुजीत राम,सनोज राम,जीतेन्द्र राम,दिपक राम,आदि लोग बाकरपुर पंचायत के वार्ड संख्या9के निवासी है।वार्ड सदस्य सुनीता देवी का कहना है कि सरकार हमे कुछ नही देती है मै विकास काम कैसे करूँ।तब हमलोगों ने मीडिया को बुलाकर अपनी दर्द को वेया किया हूँ।हमलोग मीडिया के द्बारा अपनी समस्या मीडिया के समक्ष रखा हूँ।इससे मीडिया की आवाज सरकार के कान मे गुंजे।