Breaking News

Agra News: सेना में फर्जी तरीके से भर्ती कराने वाले एक गिरोह का किया पुलिस ने खुलासा,दो जालसाज लिए हिरासत में

संवाददाता सुशील चंद्रा
एक ओर आगरा में रैली की सेना भर्ती में कई जिलों के युवाओं ने अपनी किस्मत आजमाई तो वहीं पुलिस भी सेना भर्ती के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले फर्जी गिरोह का खुलासा कर रही है। पूर्व में आगरा पुलिस ने सेना में भर्ती कराने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले लोगों को जेल भेजा था । वही तहसील बाह क्षेत्र में बेरोजगार युवाओं को भारतीय सेना में भर्ती कराने का सपना दिखाकर युवाओं से 5 लाख रुपए का ठेका लेकर फर्जी दस्तावेजों द्वारा सेना में भर्ती कराने वाले एक गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ कर खुलासा किया है। जिसमें पिनाहट पुलिस, सर्विलांस एवं स्वाट की संयुक्त टीम ने पांच सदस्य गिरोह के दो लोगों को गिरफ्तार कर कार्रवाई की है।

आपको बता दें भारतीय सेनाओं में फर्जी तरीके से ठेका लेकर दस्तावेजों के आधार पर भर्ती कराने की पुलिस को सूचना मिली थी जिस पर एसएसपी आगरा के आदेशानुसार गिरोह के भंडाफोड़ करने के लिए पुलिस की टीम गठित की गई जहां पुलिस ने आज मुखबिर की सूचना पर पिनाहट पुलिस ,सर्विलांस एवं स्वाट की संयुक्त टीम ने सेना में भर्ती कराने वाले गिरोह के दो सदस्य मनोज कुमार पुत्र कल्याण सिंह निवासी ग्राम गुर्जा शिवलाल थाना पिढौरा एवं नीरज परिहार पुत्र इंद्र सिंह निवासी नगला भरी थाना बसई अरेला जनपद आगरा को कस्बा भदरौली की नहर की पुलिया से घेराबंदी कर गिरफ्तार कर लिया। वही गिरोह के सदस्य दीपू उर्फ़ दीपक जादौन पुत्र प्रताप सिंह निवासी नगला दलेल पिनाहट, एवं साधु यादव उर्फ दीपक यादव पुत्र एवरन सिंह निवासी केंद्रपुरा इटाइली थाना बाह आगरा फरार बताए गए हैं।पुलिस ने पकड़े गए गिरोह के दोनों सदस्यों से सेना में भर्ती कराने के नाम पर फर्जी कागजात सहित 4 मोबाइल एवं अन्य सामान बरामद किया है।

पुलिस पूछताछ में गिरोह के पकड़े गए सदस्य नीरज ने बताया आगरा में सेना भर्ती चल रही है साथ ही अन्य प्रदेशों में भी सेना में भर्ती चलती रहती है जिसमें युवाओं का 5 लाख में सेना भर्ती का ठेका लिया जाता है जिसमें फर्जी पते से सामान्य निवास पत्र, अंक तालिकाएं, आधार कार्ड, मूल निवास पत्र, फर्जी प्रवेश पत्र आदि पदों पर स्थानीय दर्शा कर सेना व अन्य विभागों में नौकरियां में भर्ती कराने का कार्य करते हैं। अभियुक्तों को ज्यादातर ऐसे युवाओं की तलाश रहती थी जो भर्ती परीक्षा में पास ना हुआ हो या अयोग्य घोषित किया जा चुका हो ऐसे युवाओं से बातचीत कर भर्ती कराने के नाम पर रुपए लेकर ठेका लिया जाता है जिसमें इनका एक मुख्य साथी सुरेंद्र सिंह निवासी डंडवार थाना राजाखेड़ा जनपद धौलपुर राजस्थान के रहने वाले को पूर्व में आगरा की थाना सिकंदरा पुलिस द्वारा जेल भेजा जा चुका है। गिरोह के सदस्य सुरेंद्र सिंह, दीपू उर्फ दीपक, साधु उर्फ दीपक यादव मुख्य सरगना है। भागे हुए दीपू उर्फ दीपक एवं साधु उर्फ़ दीपक यादव की गिरफ्तारी के लिए लगातार पुलिस दबिश दे रही है जल्द ही गिरफ्तार किए जाएंगे।गिरोह का भंडाफोड़ करने वाली टीम में शामिल नरेंद्र कुमार सर्विस लांस प्रभारी आगरा, थानाध्यक्ष पिनाहट प्रदीप कुमार चतुर्वेदी, थानाध्यक्ष शमसाबाद प्रदीप कुमार, उपनिरीक्षक अरुण भाटी भदरौली चौकी, हेड कांस्टेबल आदर्श त्रिपाठी, प्रशांत कुमार, करणवीर, अरुण कुमार, दीपक कुमार, राजकुमार, अजीत कुमार , मुकुल शर्मा, अजय सिंह, शैलेंद्र शर्मा मानवेंद्र, अमित कुमार शुभम सारस्वत, भानु प्रताप सिंह, बबलू शर्मा, धर्मेंद्र सिंह स्वाट टीम आगरा, विपिन कुमार ,सुमित कुमार ,चालक शैलेश पाल मौजूद रहे।