Breaking News आर्टिकल इटावा उतरप्रदेश सम्पादकीय

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय। जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।। : डा. धर्मेंद्र कुमार

लेखक: डा. धर्मेंद्र कुमार इटावा: हम बुरे हैं ,बस यह बात स्वीकार नहीं कर सकते हैं l दूसरों की तुलना में खुद को सर्वोच्च साबित करने में युग बीत गए हैं l समय, काल, परिस्थितियों में हमारी गुलामी चाहे वह देशगत रही हो या जातिगत ,उसका संपूर्ण उत्तरदायित्व हमारा स्वयं का हैl किंतु हम अंगुली […]