Breaking News इटावा उतरप्रदेश मेरठ

मेरठ न्यूज: जीवनदान फाउंडेशन ने अनगिनत मरीजों को उपलब्ध कराया ब्लड।

संवाददाता: मनीष गुप्ता

वर्धन हॉस्पिटल में एडमिट 30 वर्षीय महिला कविता की अचानक बिगड़ी तबीयत परिवार वालों ने उसको तत्काल वर्धन हॉस्पिटल में एडमिट कराया वहां पर डॉक्टर के चेकअप के बाद पता लगा कि कविता के शरीर में ब्लड की कमी हो गई है कविता काफी दिनों से बीमार चल रही थी और उनका हीमोग्लोबिन बहुत ज्यादा कम था पहले तो परिवार वालों ने ही उसको ब्लड दिया फिर दो यूनिट बी पॉजिटिव ब्लड की और आवश्यकता पड़ी परंतु कहीं से इंतजाम ना हो। जीवनदान फाउंडेशन संस्था के अध्यक्ष ने कविता के परिजनों को पर्चा सैंपल लेकर रोटा रोड स्थित रीता ब्लड सेंटर बुला लिया और वहां से उनको दो यूनिट बी पॉजिटिव ब्लड दिला करके सहयोग किया।

मोदीनगर जीवन हॉस्पिटल में एडमिट 78 वर्षीय महिला विनीता सी एडमिट विनीता जी कई दिनों से बीमार चल रही थी विनीता जी के पति ने उनको मोदी नगर स्थित जीवन हॉस्पिटल में एडमिट कराया डॉक्टर के चेकअप के बाद पता लगा कि विनीता जी के शरीर में ब्लड 4 पॉइंट है डॉक्टर ने तत्काल विनीता जी के पति विनय को सूचना दी कि आपको इनके लिए दो यूनिट ब्लड का इंतजाम करना है। जीवनदान फाउंडेशन संस्था के अध्यक्ष ने उनको आश्वासन दिया। पर्चा सैंपल लेकर के मेरठ आ जाएं वह तत्काल मेरठ आई और रोटा रोड स्थित रीता ब्लड सेंटर से उनको दो यूनिट ओ नेगेटिव ब्लड दिलाकर सहयोग किया।

बागपत रोड आर्यना हॉस्पिटल में एडमिट हाजी इलियास की बिगड़ी अचानक तबीयत डॉक्टर ने चेकअप किया तो उनके शरीर में ब्लड की भी कमी पाई गई हाजी इलियास काफी दिनों से बीमार चल रहे थे जब तबीयत ज्यादा बिगड़ गई तो परिवार वालों ने उनको नजदीकी हॉस्पिटल आर्यना हॉस्पिटल में एडमिट करा दिया हाजी इलियास को पहले भी तो यूनिट ब्लड लग चुका था। जीवनदान फाउंडेशन संस्था से मदद मांगी सूचना मिलते ही उनको तुरंत पर्चे सैंपल लेकर के रोटा रोड स्थित रीता हॉस्पिटल में भेज दिया गया और वहां से उनको दो यूनिट बी पॉजिटिव ब्लड जिला करके सहयोग किया।

मवाना सिद्धार्थ हॉस्पिटल में एडमिट फतहकोर की हुई अचानक तबियत खराब उनको नजदीकी मवाना हॉस्पिटल में किया एडमिट महिला का ब्लड ग्रुप A+ था परंतु घर मे कोई भी ब्लड देने योग्य नही था बेटे ने भी अभी कुछ दिन पहले किया था ब्लड डोनेट इधर उधर संपर्क किया। तब जाकर जीवनदान फाउंडेशन ने उनको मवाना से रीता ब्लड बैंक पर्चा सैम्पल लेकर बुला लिया गया और वहाँ से उनको 2 यूनिट ब्लड दिलककर सहयोग किया।

23 वर्षीय आसमा बागपत रोड स्थित कैलाश हॉस्पिटल में थी एडमिट आसमा की डिलीवरी होनी थी लेडीज डिलीवरी इसलिए नहीं हो पा रही थी क्योंकि उनके शरीर में ब्लड की कमी थी और आसमा का ब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव था घर में कोई ना होने के कारण कोई ब्लड ना दे पाया और परिवार वालों ने इधर-उधर संपर्क किया परंतु किसी ने साथ ना दिया। जीवनदान फाउंडेशन संस्था ने तत्काल रोहता रोड स्थित रीता ब्लड सेंटर बुलाया गया और वहां से उनको दो यूनिट ओ पॉजिटिव ब्लड दिला करके सहयोग किया।