Breaking Newsबिहार: बेतिया

Bihar News ज़हरीले मांस खाने से 5 गिद्धों की मौत, कई दुर्लभ प्रजाति के गिद्ध बीमार

संवाददाता मोहन सिंह बेतिया

इंडो नेपाल के सीमावर्ती नवलपरासी जिला अंतर्गत कवासोती में विषाक्त मांस खाने से पांच गिद्ध की मौत सोमवर हो गई । वहीं अन्य प्रजाति के करीब आधा दर्जन गिद्ध विषाक्त मांस खाने से बीमार भी हो गए है। ये सभी गिद्ध नवलपरासी जिला के पिठौली में गिद्ध के संरक्षण करने के लिए मध्यवर्ती वन क्षेत्र में बनाए गए जटायू रेस्टुरेंट के गिद्ध बताए जाते है।

Bihar News 5 vultures died after eating poisonous meat, many rare species of vultures fell ill

जटायू रेस्टुरेंट के संचालक तथा गिद्ध संरक्षक डी बी चौधरी ने बताया की सोमवार की संध्या कवासोती नगरपालिका के वार्ड नंबर 11 लौकाहा खोला के पास कुछ गिद्ध को मृत अवस्था में देख स्थानीय निवासियों के द्वारा इसकी सूचना जटायू रेस्टुरेंट को दिया गया । घटनास्थल पर पहुंच कर देखा गया कि अति दुर्लभ प्रजाति के चार डूंगर गिद्ध तथा एक हिमाली गिद्ध घटनास्थल पर मृत अवस्था में पड़े हुए थे और इनके पास ही डूंगर प्रजाति के 6 गिद्ध तथा एक सोना गिद्ध को भी बीमार अवस्था में बरामद किया गया। जिसमें से एक डूंगर प्रजाति के गिद्ध की अवस्था अत्यंत गंभीर बताई जाती है। घटना स्थल के पास ही दो जंगली सियार के शव को देख कर अंदाजा लगाया जा रहा है कि
दोनो मृत सियार के मांस को खाने से ही सभी गिद्ध की मौत हुई है। जटायू रेस्टुरेंट के गिद्ध के हुए मौत को लेकर किए जा रहे प्रारंभिक अनुसंधान में पता चला है कि स्थानीय निवासियों के द्वारा जंगली सियार को मारने के लिए विष का प्रयोग किया गया होगा और विष के खाने से सियार की मौत हो गई होगी। फिर उन्हीं मृत सियार के विष युक्त मांस के खाने से जटायू रेस्चरेंट के गिद्ध की मौत हुई है।

Bihar News 5 vultures died after eating poisonous meat, many rare species of vultures fell ill

मृत सभी गिद्ध का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। तथा विषयुक्त मांस खाने से बीमार हुए सभी गिद्ध को जटायू रेस्टुरेंट में ला कर उपचार किया जा रहा है। पीछले साल भी कवासोती के केरुंगे खोला के पास विष युक्त कुत्ता के मांस खाने से जटायू रेस्टुरेंट के 17 गिद्ध की मौत हो गई थी। जटायू रेस्टुरेंट के गिद्ध की लगातर हो रही मौत से गिद्ध के संरक्षण में लगे संरक्षनकर्मियो के बीच गिद्ध के संरक्षण को लेकर बहुत बड़ी चुनौती उत्पन्न हो गई है।

Related Articles

Back to top button
जनवाद टाइम्स
%d bloggers like this: