अध्यात्म आगरा उतरप्रदेश देश

बटेश्वर धाम आगरा में एकादशी पर श्रद्धालुओं का उमड़ा जनसैलाब, पुलिस प्रशासन पूरी तरीके से मुस्तैद, ईश्वर को साक्षी मानकर प्रेमी युगल ने रचाई शादी

संवाददाता रणवीर सिंह : धर्म एंव संस्कृति की नगरी तीर्थ धाम बटेश्वर में शुक्रवार को देव उठान एकादशी पर महा मण्डलेश्वर बाबा बालक दास की अगुयाई में प्रथम शाही स्नान कर मोक्ष दायनी यमुना में डुबकी लगाई उनके साथ बड़ी संख्या में साधु संत

मौजूद रहे और विश्व शांत और कल्याण की कामना ।
बटेश्वर तीर्थ धाम में शुक्रवार को सैकड़ों साधु संत ब्रह्मबलाल महादेब पर इक्कठे होकर शाही यात्रा निकाली गई शाही यात्रा में नागा साधु संत हैरत गंज करतब दिखाते हुए चल रहे थे । शाही यात्रा मुख्य मंदिर से शुरू जैनमंदिर शोरी पुर वन ख़बड़ेश्वर मन्दिर , हनुमान गढ़ी, मनमथ मन्दिर ।वैराग टीला होते हुएमुख्य मंदिर पर शाही यात्रा का सामापन होकर मोक्ष दायानी यमुना मे लगाई डुबकी। सबसे पहले महामंडलेश्वर बाबा बालक दास ने लगाई ने हरहर महादेब से बमबम भोले के जयकारों से गूंज उठा सभी साधु संतों ने माथा टेककर विश्व कल्याण की कामना की।

बाबा बालक दास बताया बटेश्वर तीर्थ को पांचवा महाकुम्भ का दर्जा दिलाने को शाही यात्रा और स्नान कर परम्परा निभाई जाती है । स्नान से पूर्व सभी शाही परम्परा की रश्में निभाई है।
शाही यात्रा में शामिल नागा साधुसंतों ने हैरत अंगेज करतब दिखाए।अखाड़ों के करतब देख श्रधालु चकित रहेगये।तलवार बाजी का प्रदर्शन किया गया।सुरक्षा के लिए घुड़ सवार चार और स्वयं मेला प्रभारी बी आर दीक्षित सहित पूरा फोर्स आगे पीछे शाही यात्रा के साथ चल रहा था।
उधर हर एका दशी को निकलने वाली बाबा सियाराम दास की अगुयाई में पद यात्रा के चलते यात्रा में काफी संख्या में भीड़ हो गई थी जिसके कारण पुलिस काफी मेहनत करनी पड़ी।
बटेश्वर श्री विष्णुधाम सन्यास आश्रम में सत्तर वी बार अन्न क्षेत्र बटेश्वर धाम में श्री मद भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का आयोजन कलश यात्रा निकाल कर कथा

बाचक परम् पूज्यनीय दीदी ब्रह्मा ज्योति जी के मुखाग्र विंदु से कथा का आयोजन की रस धारा कथा हुई । कथा 8 से शुरू होकर 15 तक समाप्त होगी कथा आयोजन करता स्वामी रामानन्द सरस्वती जी महाराज बुलन्द शहर के सांध्य में हुई । कथा प्रारम्भ डेली 1 से 5 बजे तक कथा का आयोजन हुआ।
तीर्थ धाम बटेश्वर में माउंट आबू से आई बहिन भाइयों ने यमुना किनारे बने 101 श्रखला युक्त मंदिरों को देखा और उल्टी बनी यमुना किनारे एकादशी की प्रतिमा को देख कर बहनों का मन हुआ रोमांचित। मंदिर के मुख्य पुजारी जय प्रकाश गोस्वामी ने यमुना को उल्टी बहती देखा और एकादशी के बारे में विस्तार से बताया यह सुनकर ईश्वरी विद्यालय माउन्ट आबू से पधारी बीके कुमारी बंधना आर्ट गैलरी म्यूजिक बीके भावना, शिवानी बीके कृष्णा और बी के सूरत राम, बीके सुरेश, बी के महेश कुमार, बी के लक्षमण, बी के समरजीत, बी के सुरेश भाई सहित मौजूद रहे।

तीर्थ धाम में ब्रह्म लाललाल महादेब को साक्षी मान कर प्रेमी जोड़े ने आकर तीर्थ धाम बटेश्वर में पण्डित राकेश बाजपेई और अशोक गोस्वामी ने विधि विधान के साथ राधा और प्रशांत की कराई अग्नि के सात फेरे लेकर। विधिविधान मन्त्रों उच्चरण के साथ दोनों प्रेमी जोड़े के परिजन शादी में आकर बने मुख्य गवाह ।

आगरा निवासी लड़की लगडे की चौकी और बोदला लड़के के परिजन आगरा निवासी है। शादी देखने को लगा श्रद्धालुओं का हजूम।